No1 Hindi Poems About Life|Love poems|Famous Poems|2019

Reading Time: 2 minutes

 

Hindi Poem 

No 1 About Life|Love |Famous |2019

Part1

Hindi poem for 2019
Hindi poem for 2019
No 1 Hindi Poems  Poems 2019

 

मैं अनजाना था और थोड़ा बेगाना भी था
औरो की तरह मेरे सपने भी थे सूरज में जाने की
लेकिन अब चाँद भी लगने लगा है हद से ज्यादा बड़ा
                                     न जाने कब हो गया मै इतना बड़ा
मंज़िले भी थी,पर विशवास भी था
हौसलो ने भी अपनी पंख लिए पसार
परंतु जिम्मेदारियाँ कब आ गई हद से ज्यादा बड़ा
                                   न जाने कब हो गया मै इतना बड़ा
पहले कह दिए तू चल हम तेरे साथ है
अब कहते है, नहीं देता तू  अपना साथ है
काश पहले कह देते,मत रहो अपने सपनो में अड़ा
                                     न जाने कब मैं हो गया इतना बड़ा
न अब बन रहा था की अधूरे ही चले जाये
लेकिन अपने अरमानो ने रोका था 
सारी मलकियत  ने कर लिया अपने हाथों को खड़ा
                                       न जाने कब हो गया बड़ा
मैं कहता रहा मुझसे नहीं जाएँगी इन जिम्मेदारियों से लड़ा
अभी मुझे रहने दो मासूम बच्चे की तरह
अपना काम होगा सिर्फ अपनी मां की गोद में सोना
लेकिन लगा जब जिम्मेदारियो की चाबुक, हुआ  मैं भाग खड़ा

 

 

kyon ma khud ko is tarah taiyar kare taki log aap ko dekhkar kahe wah kya aadmi se mujhe mulakaat ho gai hai isliye main aaps kahna chah raha hun ki aap apne aapko ko kabhi koshiye mat ki main aisa hun ,main waisa hun.
kyonki aise isi ka naam zindagi hai aur isi jeevan mein kai successful log hue hain aur kai unsuccessfull.
ye main Hindi poem  ke madhayam se kah rha hun.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.